दसवें दिन की यात्रा चीनी मार्केट की सैर 28.07.2008

28.07.2008 श्रावण बदी 10/11 सोमवार

सुबह आराम से सोकर उठे। पहले श्री मस्करा जी स्नान किए तत्पश्चात मैं स्नान किया। 8.00 बजे नाश्ता के लिये बुलाया गया हम लोग नाश्ता के लिए डायनिंग हॉल में पहुंचे। कुछ यात्री हमसे पहले पहुंच गए थे। नाश्ता टेबल में लगाया गया था। नाश्तें में ब्रेड, जेम, टोस्ट, मक्खन, फ्राई मुंगफली दाना और चाय दिया गया। नाश्ता उपरांत छोटी मिटिंग हुई जिसमें बताया गया कि आगे की यात्रा हेतु पोनी पोर्टर की आवश्यकता नोट करा देवें ताकि उसी के अनुरूप चीनी अधिकारियों को मॉग नोट कराई जाएगी। उसी प्रकार उन्हें भुगतान देने तथा अन्य खर्चे हेतु यहॉं युवान (चीनी मुद्रा) लगेगा अतः यात्रीगण आवश्यकतानुसार डालर के बदले युवान एक्सचेंज करा लेवें। सुविधा के लिए यात्री अपने डॉलर चेन्नई के यात्री श्री पंचनाथन के पास जमा करे, जो कि बैंक से एकसाथ एक्सचेंज करा देगें। मैं युवान लेने के लिए 200 डालर जमा किया। बाजार जाकर पी.सी.ओ. से घर बात किया फिर घुमते हुए कुछ सामान (मास्क) खरीदकर वापस गेस्ट हाऊस आए।
लगभग 11.00 बजे भोजन का बुलावा आया लंच में चावल/सुप/उबला गोभी परोसा गया। चावल, गोभी खाया, सुबह युवान के लिए 200 डालर जमा किया था एक्सचेंज उपरांत 1350 युवान वापस मिला (1 डालर-6.75 यूवान) मेरे द्वारा पोनी एवं पोर्टर दोनो की मॉंग सुबह नोट कराई गई थी। जिनके लिए अग्रिम पोनी के लिए प्रतिदिन 270 यूवान के दर से 810 यूवान तथा पोर्टर के लिए प्रतिदिन 120 यूवान के दर से 360 यूवान कुल 1170 यूवान तीन दिन के लिए लाईजिंग ऑफिसर के पास जमा किया। श्री मस्करा जी केवल पोर्टर के लिए राशि जमा किए पश्चात वापस कमरे में आकर आराम किए। तकलाकोट से आगे की यात्रा कल प्रारंभ होनी है जिसके लिए लाइजिंग ऑफिसर द्वारा हम 46 यात्रियों के दो ग्रुप बनाए गए। ग्रुप ‘‘ए‘‘ कैलाश परिक्रमा पहले करेगा फिर मानसरोवर परिक्रमा करेगा उसी प्रकार ग्रुप ‘‘बी‘‘ मानसरोवर परिक्रमा पहले करेगा उसके बाद कैलाश परिक्रमा करेगा। ग्रुप ‘‘ए‘‘ के लिए लाइजिंग ऑफिसर श्री हरन तथा ग्रुप ‘‘बी‘‘ के लिए दिल्ली के यात्री श्री लांबाजी टीम लीडर नामजद किया गया। पहले कैलाश परिक्रमा में जाने वाले ग्रुप ‘‘ए‘‘ में टीम लीडर श्री हरन के अलावा श्री राकेश जुनेजा, विक्रम (दिल्ली), मस्करा, सुरेश, परेश भाई, भूपेन्द्र प्रजापति, एन.आर. मोदी (अहमदाबाद), नरसिह नारायण जोशी, अशोक भाई (पोरबंदर) रामशरण (चंडीगढ़), मोनषर्शा दम्पति (आणन्द), जी.एऩ शास्त्री व श्रीमति एन.जी. शास्त्री (बंगलौर), ईश्वर भट्ट (मंगलोर), श्रीमाता (बंगलोर), श्रीमति कुलकर्णी (पूणे), विपिन वाढेर (राजकोट), बाकुला बेन, किशोर कुमार पटेल (सूरत) बालकिशन (बड़ोदरा) एवं मैं स्वयं उसी प्रकार पहले मानसरोवर परिक्रमा में जाने वाले ग्रुप ‘‘बी‘‘ में टीम लीडर श्री लांबा के अलावा सर्वश्री भरत भट्ट, डॉ. भावसर (मुबंई), मानसिंग वर्मा (अहमदाबाद), सयाली देवघर, पूजा साठे, जे.डी. दातार (पूणे), देवजीभाई पटेल, नाथी बेन पटेल (सांवरकांठा गुजरात), एस. टांडवन, अरावली टांडवन (तमिलनाडु) जी वेंकटेश (बंगलोर), कमला, कुसुम बंसल, अशोक गुप्ता (दिल्ली), एस. बाला जी (चेन्नई), बी.आर. जर्नादन ( बंगलोर), रूबी (जम्मू), नंदन देशपांडे (पूणे), रामचद्रंन पंचनाथन, जे. नंदगोपाल (चेन्नई) एस. सुबैया (गंुटुर) यात्री तय किए गए।
दोपहर को थोड़ा सा आराम करने के बाद हम लोग पुनः बाजार गए। सबेरे जिस दुकान पर जाकर टेलीफोन से घर बात किया था वहीं से पुनः घर बात किया तथा यात्रा के दौरान कैलाश परिक्रमा में पहले जाने की बात बताया। यात्रा के दौरान तकलाकोट सकुशल पहुंचने एवं कल से कैलाश परिक्रमा एवं तत्पश्चात मानसरोवर परिक्रमा यात्रा में रवाना होने की जानकारी फोन से सर्वश्री ब्रम्हचारी सुबुद्धानन्दजी ब्रम्हचारी ब्रम्ह विद्यानन्दजी, स्वामीसदानन्द सरस्वती, स्वामी, अविमुक्तेश्वरानन्द सरस्वती, पं. राजेन्द्र शास्त्री, ज्ञानेश शर्मा, योगेन्द्र शंकर शुक्ला, नरसिंह चन्द्राकर एवं भैया रविन्द्र चौबे को दिया। जवाब में मुझे सभी से आगे की सफल यात्रा के लिए आशीर्वाद प्राप्त हुआ। ठंडी हवा तेज चलना प्रारंभ हो गया था, अन्य सहयात्री भी बाजार भ्रमण कर रास्ते के लिए आवश्यक सामान (टाफी, चाकलेट आदि) की खरीदी कर रहे थे एवं पी.सी.ओ. से टेलीफोन भी कर रहे थे। हम लोग 5.00 बजे गेस्ट हाऊस वापस आ गए। शाम 5.30 बजे (चीनी समय 7.30 बजे) डिनर के लिए बुलावा आ गया। डिनर में चावल/सूप/ऊबला आलू/ऊबला पत्ता गोभी दिया गया।

कैलाश मानसरोवर यात्रा के दौरान चीन सरकार द्वारा यात्रियों को रूकने की व्यवस्था, तथा खाना बनाने हेतु बर्तन व गैस सहित चुल्हा की सुविधा उपलब्ध कराई जाती है। भोजन सामग्री एवं रसोईया का इंतजाम यात्रियों को स्वयं करना होता है, इसलिए तकलाकोट से दो ग्रुप हेतु दो रसोईया का सामूहिक व्यय पर इंतजाम किया गया। दिल्ली से यात्रा में रवाना होने के पूर्व हम 46 यात्रियों के लिए 10 दिन का राशन सामग्री एवं दो बैग मेडिकल कीट दिल्ली के पंजीकृत संस्था कैलाश मानसरोवर यात्रा समिति द्वारा प्रदाय किया गया था जिसका दो हिस्सा गु्रप ‘‘ए‘‘ एवं ‘‘बी‘‘ के लिए तैयार किया गया। रात को वापस कमरे में आकर खुद का लगेज पैक किए एवं टी.वी. देखते हुए सो गए।

क्रमश: .....

डी.पी.तिवारी,
रायपुर

No comments:

Post a Comment

There was an error in this gadget